मेदिनीपुर और खड़गपुर स्टेशनों के नाम अल्चिकी लिपि में लिखे गए....






आद्रा के बाद, खड़गपुर रेलवे डिवीजन के मेदिनीपुर और खड़गपुर स्टेशनों के नाम अल्चिकी लिपि में लिखे गए....




आद्रा के बाद, खड़गपुर रेलवे डिवीजन के मेदिनीपुर और खड़गपुर स्टेशनों के नाम अल्चिकी लिपि में लिखे गए....





इस बार खड़गपुर मंडल के खड़गपुर और मेदिनीपुर रेलवे स्टेशनों के नाम भी अलचिकी लिपि में लिखे गए है। लंबे समय से विभिन्न आदिवासी संगठन भाषा आंदोलन की राह पल का इंतजार कर रहे थे।। आदिवासी संगठनों का एकमात्र दावा यह था कि संताली पश्चिम बंगाल में दूसरी आधिकारिक भाषा है। इस भाषा को सभी सरकारी विभागों और कार्यालयों में उसी तरह से मान्यता दी जानी चाहिए जैसे कि इसे केवल दूसरी आधिकारिक भाषा के रूप में मान्यता दी गई है। इस संबंध में, विभिन्न आदिवासी संगठन लंबे समय से मातृभाषा में अधिकारों की प्राप्ति के लिए आंदोलन कर रहे थे। अभी ओह सब आंदोलन की मांग अब धीरे-धीरे लागू हो रही है।





इससे पहले, आदिवासी संगठन भरत ज़कात मझि परगना महल ने मांग की थी कि आद्रा रेलवे डिवीजन के सभी संथाल बसे हुए स्टेशनों में स्टेशन का नाम अलचिकी लिपि में लिखा जाए। एनी परगना महल की ओर से, आद्रा डिवीजन के सभी रेलवे स्टेशनों के स्टेशन मास्टर्स को आद्रा डिवीजन के संथालों द्वारा बसाया गया था। और अभी नोटिस के आधार पर उन सभी स्टेशनों के नाम संताली भाषा में अलचिकी लिपि में लिखे गए हैं। यद्यपि आद्रा डिवीजन का अंतिम स्टेशन जंगलमहल वदुतला अलचिकी में लिखा गया है और इसका अगला स्टेशन मेदिनीपुर है, स्टेशन का नाम भी अल चिक्की लिपि में लिखा गया है। यहाँ यह उल्लेख किया जा सकता है कि स्टेशन का नाम आदिवासी विभाग के साथ खड़गपुर डिवीजन के मेदिनीपुर स्टेशन से अलचिकी लिपि में लिखा गया है।





कियू की मेदिनीपुर और खड़गपुर रेलवे स्टेशन दो भीड़-भाड़ वाले स्टेशन हैं और इन भीड़-भाड़ वाले स्टेशनों में आदिवासी संथालों के बीच संताली भाषा की अल्चिकी लिपि में स्टेशन का नाम लिखा गया है। ओर यह देख कर हर आदिवासी अपना लिपि ओर खुद पर गर्व कर रहा है।





related:- संताली सुसौर क्लब द्वारा गाँव के इन पांच लोगों को संक्रांति के अवसर सम्मानित किया