अब विश्वविद्यालय में होगी संथाली भाषा की पढ़ाई

 

बिहार:- बिहार के भागलपुर मे आदिवासी सुसार बैसी ने मंगलवार को तिलकामांझी चौक के पास भाषा दिवस मनाया। बहास दिवस की मौके पर मौके पर अध्यक्ष राजेश हेम्ब्रम ने कहा कि 22 दिसंबर 2003 को संथाली भाषा को आठवी अनुसूचि में जोड़ा गया है। उसी अवसर पर भाषा दिवस मनाया जाता है। राजेश हेम्ब्रम ने कहा कि तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय में संथाली भाषा की पढ़ाई शुरू कराने की मांग सरकार से की गयी थी। इस मौके पर पलटन हेम्ब्रम ने कहा कि नयी भाषा नीति 2020 के तहत प्रत्येक विद्यालय में अपनी-अपनी भाषा की पढ़ाई सराहनीय कदम है। अब इसे बीपीएससी में ऐच्छिक विषय के रूप में लेने की मान्यता दी जाए। इस मौके पर अजय मरांडी, गुरुदेव मुर्मू, श्याम किस्कू, चंद्रशेखर सोरेन व सुनील हांसदा सारे आदिवासी समाज को लग मौजूद थे ।