कोराना वायरस से मुक़ाबिला करने के लिए रुषीया ने Sputnik V  वेक्सीन  निकला।

कोराना वायरस से मुक़ाबिला करने के लिए रुषीया ने Sputnik V वेक्सीन निकला।


Sputnik V Approved

रूषीया :- कोराना वायरस से मुक़ाबिला करने के लिए रशिया ने Sputnik  वेक्सीन । रूष वैज्ञानिकों के अनुसार एपिवाक वैक्सीन का कोई दुष्प्रभाव नहीं है;  पंजीकरण अक्टूबर में होगा, और टीका नवंबर में आएगा 

पूरी दुनिया कोरोना वैक्सीन के लिए इंतजार कर रही है। वहीं, रूष ने एक और वैक्सीन विकसित करने का दावा किया है। इसका नाम Sputnik V कोरोना वैक्सीन के नाम पर रखा गया है। रूष के अनुसार, टीके का कोई दुष्प्रभाव नहीं है। रूषीया वैज्ञानिकों के अनुसार, पहले टीके लेने के बाद होने वाले दुष्प्रभाव अब नए टीके लेने के बाद नहीं दिखेंगे।वैक्सीन का क्लिनिकल ट्रायल सितंबर तक खत्म हो जाएगा।

लेकिन वैक्सीन का परीक्षण करने वाले स्वयंसेवकों पर कोई दुष्प्रभाव नहीं दिखा। वे सभी स्वस्थ हैं और आश्वस्त महसूस कर रहे हैं।
पहली टीका के 14 से 21 दिन बाद दूसरा टीका दिया जाएगा।वैक्सीन अक्टूबर तक पंजीकृत होगी और नवंबर में वैक्सीन का उत्पादन किया जाएगा। इसे साइबेरियन इंस्टीट्यूट ऑफ ग्लोबल बायोलॉजी में बनाया गया है।इससे पहले, रूष ने स्पुतनिक-फाइव नामक एक कोरोना वैक्सीन विकसित करने का दावा किया था।यह रूष के राष्ट्रपति ने खुद कहा था।हालांकि, विश्व स्वास्थ्य संगठन सहित कुछ अन्य देशों ने वैक्सीन की सफलता पर सवाल उठाए हैं।

आगे पढें

सुशांत सिंह राजपूत मौत का मामला। रिया चक्रबति को गिरफ्तार कर सकता है CBI

0 Comments: